नज्म / अल्लामा इक़बाल

0
52

 

राम को लेकर भारत में लंबे अरसे से बहस छिड़ी है। वर्तमान दौर में इस बहस को राजनीतिज्ञों ने अत्यंत ही तीखा बना दिया है। जिससे राम समय  के साथ सीमित होते जा रहे हैं। हिंदी साहित्य में तुलसी के अपने राम हैं तो कबीर के अपने। कबीर तुलसी के राम कि अपनी व्यापकता है। कबीर और तुलसी के तरह ही उर्दू मशहूर कवि अल्लामा इक़बाल के अपने राम है। दरअसल फ़ारसी में ‘राम‘ को किसी को अपने अधीन कर लेने वाले को कहा जाता है। इक़बाल के राम भाषा विशेष और खास भगौलिक परिक्षेत्र में रमण करने वाले नहीं हैं। अल्लामा मर्यादा पुरूषोत्तम श्री रामचन्द्र को ‘इमाम ए हिन्द‘ समझते हैं। ‘इमाम ए हिन्द‘ का अर्थ यह हुआ कि उनका आदर्श सारे हिन्दुस्तान को सच्चाई और नेकी का रास्ता दिखा रहा है। राम के इस महता को समझने के लिए जरूरत ‘अहले नज़र‘ की । यहाँ राम को ईश्वर और राजा से इतर ‘इमाम ए हिन्द‘ थे, अर्थात हिन्दुस्तान के नायक के रूप में चित्रित किया गया है। इक़बाल ने जिस ‘अहले नज़र‘ से राम को देखा वह नजर आज के समाज के पास नहीं है। शायद यही वजह है कि आज राम कुछ भक्तो के बीच कैद होते हुये दिख रहें हैं। आज जो राम के नाम पर हो रहा है उसपर हिन्दुस्तानियों को नाज़ होगा? दरअसल में राम महज दो अक्षरों संयोग बना हुआ शब्द नहीं बल्कि कर्म कि व्याख्या है। जय श्री राम कहने मात्र से उनके चरित और मर्यादा की रक्षा नही की जा सकती है। राम राज सत्ता के लिए आपसी टकराव के प्रतीक नहीं है। अगर ऐसा होता तो वनवास स्वीकार नहीं करते। राम वीरता पवित्रता और प्रेम के प्रतिनिधि है। प्रस्तुत है अल्लामा इक़बाल का मशहूर नजम  “राम” – मॉडरेटर   

लबरेज़ है शराबे-हक़ीक़त से जामे-हिन्द[1] 

सब फ़ल्सफ़ी हैं खित्ता-ए-मग़रिब के रामे हिन्द[2] 

ये हिन्दियों के फिक्रे-फ़लक[3] उसका है असर,

रिफ़अत[4] में आस्माँ से भी ऊँचा है बामे-हिन्द[5] 

इस देश में हुए हैं हज़ारों मलक[6] सरिश्त[7] ,

मशहूर जिसके दम से है दुनिया में नामे-हिन्द 

है राम के वजूद[8] पे हिन्दोस्ताँ को नाज़,

अहले-नज़र समझते हैं उसको इमामे-हिन्द 

एजाज़ [9] इस चिराग़े-हिदायत[10] , का है यही

रोशन तिराज़ सहर[11] ज़माने में शामे-हिन्द 

तलवार का धनी था, शुजाअत[12] में फ़र्द[13] था,

पाकीज़गी[14] में, जोशे-मुहब्बत में फ़र्द था 

 शब्दार्थ 
  1.  हिन्द का प्याला सत्य की मदिरा से छलक रहा है
  2.  पूरब के महान चिंतक हिन्द के राम हैं
  3.  महान चिंतन
  4.  ऊँचाई
  5.  हिन्दी का गौरव या ज्ञान
  6. देवता
  7.  ऊँचे आसन पर
  8. अस्तित्व
  9.  चमत्कार
  10. ज्ञान का दीपक
  11.  भरपूर रोशनी वाला सवेरा
  12.  वीरता
  13.  एकमात्र
  14. पवित्रता